Chhattisgrah Lok Sabha Election Result 2024: भूपेश बघेल ने उठाए बड़े सवाल, अब होगा बवाल?

ChhattisgarhTak

ADVERTISEMENT

पूर्व सीएम भूपेश बघेल
Bhupesh Baghel
social share
google news

Chhattisgrah Lok Sabha Election Result 2024- वरिष्ठ कांग्रेस नेता और छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) ने आरोप लगाया कि राजनांदगांव लोकसभा सीट पर मतदान के बाद कई इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) और वीवीपैट यूनिट बदल दी गईं, जहां से उन्होंने चुनाव लड़ा था.

बघेल ने दावा किया कि भारत के चुनाव आयोग (ईसीआई) की ओर से राजनांदगांव में 26 अप्रैल को हुए मतदान में इस्तेमाल की गई कई ईवीएम की संख्या फॉर्म 17 सी में उल्लिखित संबंधित बूथों की मशीनों के विवरण से मेल नहीं खाती है.

हालांकि, राजनांदगांव के रिटर्निंग ऑफिसर ने किसी भी तरह की अनियमितता या संख्याओं में बेमेल से इनकार किया.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

क्या बोले बघेल?

लोकसभा चुनाव की मतगणना की पूर्व संध्या पर अपने एक्स हैंडल पर एक पोस्ट में पूर्व सीएम ने कहा, "चुनाव आयोग ने मतदान में इस्तेमाल की गई मशीनों के नंबर दिए थे. इसमें बैलेट यूनिट, कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट की संख्या शामिल है.

कई मशीनों के नंबर बदल गए हैं

बघेल ने कहा, "मेरे निर्वाचन क्षेत्र राजनांदगांव में मतदान के बाद फॉर्म 17 सी में उल्लिखित जानकारी के अनुसार, कई मशीनों के नंबर बदल गए हैं. जिन बूथों पर मशीनों के नंबर बदले गए हैं, वहां हजारों वोट प्रभावित होते हैं. वोटर वेरिफ़िएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) ईवीएम से जुड़ी एक स्वतंत्र प्रणाली है जो मतदाताओं को यह सत्यापित करने की अनुमति देती है कि उनका वोट उनके इरादे के अनुसार ही डाला गया है. जब कोई वोट डाला जाता है, तो एक पर्ची छपती है जिसमें उम्मीदवार का सीरियल नंबर, नाम और चुनाव चिह्न होता है और यह पारदर्शी खिड़की के माध्यम से 7 सेकंड के लिए दिखाई देती है. इसके बाद, यह छपी हुई पर्ची अपने आप कट जाती है और वीवीपीएटी के सीलबंद ड्रॉप बॉक्स में गिर जाती है.

ADVERTISEMENT

राजनांदगांव से कांग्रेस उम्मीदवार बघेल ने कहा कि उन्होंने अपनी शिकायतों के साथ छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से संपर्क किया है. "कई अन्य लोकसभा क्षेत्रों से भी ऐसी ही शिकायतें मिली हैं. हम राज्य चुनाव अधिकारी से शिकायत कर रहे हैं. @ECISVEEP को जवाब देना चाहिए कि किन परिस्थितियों में मशीनें बदली गईं और चुनाव परिणाम पर किसी भी तरह के प्रभाव के लिए कौन जिम्मेदार होगा?

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा कि मशीनों के बदले गए नंबरों की सूची बहुत लंबी है, लेकिन आपके अवलोकन के लिए एक छोटी सूची संलग्न है. राजनांदगांव लोकसभा सीट के रिटर्निंग ऑफिसर ने उनके आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि शिकायत निराधार और तथ्यों से परे है.

चुनाव अधिकारी ने क्या कहा?

रिटर्निंग ऑफिसर ने एक बयान में कहा, "लोकसभा चुनाव 2024 की घोषणा के बाद, ईसीआई द्वारा प्रदान किए गए सॉफ्टवेयर का उपयोग करके ईवीएम का पहला रैंडमाइजेशन किया गया था और मशीनों को विधानसभा सीट-वार आवंटित किया गया था और इस संबंध में एक सूची मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों को प्रदान की गई थी." "दूसरा रैंडमाइजेशन चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के सामने किया गया था और उन्हें एक हस्ताक्षरित सूची प्रदान की गई थी.

 बयान में कहा गया है कि ईवीएम की कमीशनिंग के दौरान जिन मशीनों में गड़बड़ी आई थी, उन्हें रिजर्व में रखी गई मशीनों से बदला गया तथा खराब मशीनों और उनके स्थान पर लगाई गई मशीनों की सूची उपलब्ध कराई गई तथा पावती प्राप्त की गई.

 बयान में कहा गया है कि मॉक पोल और वास्तविक मतदान के दौरान खराब हुई ईवीएम को रिजर्व में रखी गई मशीनों से बदला गया तथा इसकी सूची भी सभी उम्मीदवारों को दी गई.  मतदान केंद्रों पर उम्मीदवारों के पोलिंग एजेंटों की मौजूदगी में मशीन का नंबर पता टैग, मतपत्र लेखा 17सी भाग 1, पीठासीन अधिकारी की डायरी, मॉक पोल प्रमाण पत्र आदि कई दस्तावेजों में दर्ज किए जाते हैं, जिनका मिलान मतगणना के दौरान किया जा सकता है.

 बयान में कहा गया है कि पीठासीन अधिकारी ने लिपिकीय त्रुटियां की होंगी. मतदान के दौरान केवल उन्हीं मशीनों का उपयोग किया गया, जिनकी सूची समय-समय पर उम्मीदवारों को उपलब्ध कराई गई थी. पूरी प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी है तथा उम्मीदवारों के एजेंट और प्रतिनिधि हर स्तर पर मौजूद रहे और इसका निरीक्षण किया. मतदान केंद्रों पर मौजूद मतदान एजेंट ईवीएम नंबर देखने के बाद खुद ही विभिन्न दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर देते हैं.''

रिटर्निंग अधिकारी ने कहा कि मतगणना के दौरान ईवीएम और दस्तावेजों का मिलान करके लिपिकीय त्रुटियों को ठीक किया जा सकता है.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT