भूपेश Vs रमन: सीएम बघेल पर पूर्व सीएम का पलटवार, इन चार आंकड़ों से साधा निशाना

ChhattisgarhTak

ADVERTISEMENT

ChhattisgarhTak
social share
google news

Bhupesh Vs Raman News- छत्तीसगढ़ में आगामी विधानसभा चुनावों (Chhattisgarh Elections) से पहले भाजपा और कांग्रेस के बीच सियासी जंग जारी है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) के राजनांदगांव (Rajnandgaon) को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह (Dr Raman Singh) पर दिए गए बयान पर अब सियासत तेज हो गई है. पूर्व सीएम ने पलटवार करते हुए सीएम बघेल को चार आंकड़ों के जरिए घेरने की कोशिश की है. सिंह ने शनिवार को कहा कि राजनादगांव भाजपा सरकार में हुए 15 साल के विकास को अच्छी तरह जानता है. यहां की जनता जब पिछली बार आपके छलावे में नहीं आई तो इस बार भी आपके छलावे में नहीं आएगी.

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने एक्स पर लिखा, “राजनादगांव भाजपा सरकार में हुए 15 साल के विकास को अच्छी तरह जानता है दाऊ भूपेश बघेल यहां की जनता जब पिछली बार आपके छलावे में नहीं आई तो अब पिछले पौने 5 साल का कुशासन देखने के बाद, करोड़ों के घोटाले और जुए सट्टे में संलिप्तता उजागर होने के बाद क्या आपके छलावे में आएगी.”

इन चार आंकड़ों से साधा निशाना

पूर्व सीएम आगे कहा कि जहां तक बात आंकड़ों की है तो आप छत्तीसगढ़ को सड़क दुर्घटना में देश में प्रथम स्थान पर लाए, शिक्षा के क्षेत्र में देश में 34वें स्थान पर लाए, प्रधानमंत्री जल जीवन मिशन तक के क्रियान्वयन में 31वें स्थान पर लाए, वन अधिकार पत्र वितरण में दूसरे स्थान से सातवें स्थान पर लाए.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

सिंह ने कहा, “आपके काले कारनामों के आंकड़े तो बहुत ज्यादा हैं यह मुझे बताने की आवश्यकता नही है प्रदेश की जनता स्वयं आने वाले समय में आपसे इनका हिसाब लेगी.”

बघेल ने क्या कहा था?

राजनांदगांव के ठेकवा में शुक्रवार को आयोजित भरोसे का सम्मेलन में सीएम बघेल ने पूर्व सीएम रमन सिंह पर जमकर हमला बोला. बता दें कि राजनांदगांव विधानसभा क्षेत्र से ही रमन सिंह विधायक है. कांग्रेस के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे की मौजूदगी में बघेल ने कहा, “रमन सिंह जी 15 सालों तक मुख्यमंत्री थे. खड़गे साहब को बताना चाहता हूं कि देश में जो 110 पिछड़े जिले हैं उसमें एक जिला राजनांदगांव भी है. 15 साल तक यह पिछड़े जिले में शामिल था. किसान यहां आत्महत्या करते थे और सिर्फ यहां लूटपाट के काम होते थे. क्योंकि चिटफंड कंपनिंयों के कार्यालय यहीं खुले थे. इंदिरा केंद्रीय बैंक के पैसे लुटे गए. यही लुटने का काम केंद्र सरकार भी कर रही है.” इसके साथ ही बघेल ने एक्स पर पोस्ट किया, “5 साल मुख्यमंत्री रहने के बाद भी डॉ रमन सिंह जी राजनांदगांव पर ध्यान नहीं दे पाए. देश के 110 पिछड़े जिलों में राजनांदगांव को शामिल करने का श्रेय डॉ. रमन सिंह जी को जाता है.”

ADVERTISEMENT

कांग्रेस का ‘रमन घेरो प्लान’?

आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा जहां बघेल को पाटन में घेर रही है. वहीं रमन सरकार के 15 साल के कामकाज को प्रचारित कर रही है. इस बीच अब कांग्रेस रमन सिंह के खिलाफ हमलावर रूख अपनाती दिखाई दे रही है.

ADVERTISEMENT


राजनांदगांव का ठेकवा गांव पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉ. रमन सिंह की राजनांदगांव विधानसभा सीट का हिस्सा है. खड़गे शुक्रवार को इसी गांव में पहुंचे थे. संयोग से, 2018 के राज्य चुनावों में कांग्रेस ने अविभाजित राजनांदगांव जिले की छह में से चार सीटों पर जीत हासिल की थी. अन्य दो सीटों पर रमन सिंह और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के नेता देवव्रत सिंह ने जीत हासिल की थी.पिछले साल देवव्रत सिंह के निधन के बाद खैरागढ़ विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी. बघेल सरकार ने राजनांदगांव से मोहला-मानपुर-अंबागढ़ चौकी और खैरागढ़-छुईखदान-गंडई जिले बनाए. ऐसे में यहां ‘भरोसे का सम्मेलन’ आयोजित कर कांग्रेस ‘रमन घेरो’ का सियासी संकेत देना चाहती है.

इसे भी पढ़ें- खड़गे का मोदी पर वार, कहा- गुजरात नहीं, यह भूपेश बघेल मॉडल है; भाजपा पर साधा जमकर निशाना

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT