छत्तीसगढ़ चुनाव: BJP का दावा- बघेल सरकार आधिकारिक मशीनरी का कर रही है दुरुपयोग; EC में की शिकायत

ChhattisgarhTak

ADVERTISEMENT

ChhattisgarhTak
social share
google news

Chhattisgarh Elections 2023- विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने शनिवार को छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के पास शिकायत दर्ज कराई और कांग्रेस की भूपेश बघेल सरकार पर विधानसभा चुनावों के लिए आधिकारिक मशीनरी का “दुरुपयोग” करने का आरोप लगाया.

सीईओ कार्यालय के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए, छत्तीसगढ़ चुनाव के लिए भाजपा के संयुक्त प्रभारी केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा कि राज्य भर से सरकारी अधिकारियों द्वारा पार्टी कार्यकर्ताओं को “परेशान” करने की शिकायतें मिली हैं.

 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

‘भय का माहौल बनाने की कर रहे हैं कोशिश’

मांडविया ने कहा, “विभिन्न स्थानों पर अधिकारी चुनाव को प्रभावित करने के लिए भय का माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं. हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है. भाजपा की प्रचार सामग्री और झंडे ले जाने वाले वाहनों को अनावश्यक रूप से रोका जा रहा है. लोकतंत्र में, हर व्यक्ति किसी को भी वोट दे सकता है और यह है किसी भी पार्टी के लिए प्रचार करना हर नागरिक का अधिकार है.”

उन्होंने आगे कहा, “कोई भी राजनीतिक दल संबंधित व्यक्ति की अनुमति से किसी के भी घर पर झंडा लगा सकता है. यहां तक कि जिन भाजपा कार्यकर्ताओं ने अपने घरों में पार्टी के झंडे लगाए हैं, उन्हें भी परेशान किया जा रहा है. भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं की हत्याएं की जा रही हैं. ऐसे कृत्यों के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है.”

ADVERTISEMENT

 

ADVERTISEMENT

‘चुनाव आयोग के पास 58 आवेदन किए दायर’

मांडविया ने आरोप लगाया कि दंतेवाड़ा, नारायणपुर और बीजापुर जैसे निर्वाचन क्षेत्रों में आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया जा रहा है, उन्होंने कहा कि भाजपा ने चुनाव आयोग के समक्ष अपने विचार रखे ताकि राज्य में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव हो सकें.

मांडविया ने कहा, “भाजपा ने अब तक विभिन्न मुद्दों पर कार्रवाई की मांग करते हुए चुनाव आयोग के पास 58 आवेदन दायर किए हैं. हम उन पर त्वरित कार्रवाई की उम्मीद करते हैं.”

केंद्रीय मंत्री ने राज्य में नौकरशाही और अधिकारियों से निर्धारित मानदंडों का पालन करने और दबाव में काम नहीं करने को कहा. मांडविया ने कहा, “अगर हमारे मुद्दों का समाधान नहीं किया गया, तो हम भारत के चुनाव आयोग से संपर्क करेंगे.”

भाजपा सांसद सुनील सोनी और पार्टी के अन्य नेता उनके साथ सीईओ के कार्यालय गए थे. 90 सदस्यीय राज्य विधानसभा के लिए दो चरणों में 7 और 17 नवंबर को मतदान होगा. वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी.

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ चुनाव: शाह और सरमा के किस बयान को लेकर चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेस? जानें पूरा मामला

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT