छत्तीसगढ़ कांग्रेस की पहली लिस्ट: पुराने नेताओं पर भरोसा, सोशल इंजीनियरिंग का भी रखा ख्याल; क्या है समीकरण?

ChhattisgarhTak

ADVERTISEMENT

ChhattisgarhTak
social share
google news

Chhattisgarh Congress Candidate List- कांग्रेस ने अगले महीने होने वाले छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों (Chhattisgarh Elections 2023) के लिए रविवार को 30 उम्मीदवारों की सूची जारी की. पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की पहली सूची में कई पुराने नेताओं पर उम्मीदें लगाई हैं और कुछ नए चेहरों को भी मौका दिया है. वहीं सोशल इंजीनियरिंग का भी बखूबी ध्यान रखा है. साथ ही 8 मौजूदा विधायकों का टिकट काटकर पार्टी ने सियासी सख्ती का भी संदेश दिया है.

पार्टी की ओर से जारी उम्मीदवारों की सूची में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, उनके सभी 12 कैबिनेट सहयोगियों और राज्य विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत सहित 22 मौजूदा विधायकों को फिर से नामांकित किया गया. प्रदेश में सत्तारूढ़ दल ने आठ मौजूदा विधायकों को टिकट देने से इनकार कर दिया है, जबकि राज्य इकाई के प्रमुख और सांसद दीपक बैज को मैदान में उतारा है.

90 सदस्यीय छत्तीसगढ़ विधानसभा के लिए चुनाव दो चरणों में 7 और 17 नवंबर को होंगे. कांग्रेस ने एक सीट -जगदलपुर के लिए उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है. यह सीट उन 20 निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है जहां पहले चरण में 7 नवंबर को मतदान होना है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

 

जाति समीकरण साधने की कोशिश

कांग्रेस ने जिन 30 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा की है, उनमें से 14 सीटें अनुसूचित जनजाति और तीन सीटें अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित हैं. बाकी 13 सामान्य सीटों में से नौ सीटों पर अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के उम्मीदवारों को मैदान में उतारा गया है. सूची में एक मौजूदा मंत्री और दो विधायकों सहित चार महिला उम्मीदवार हैं. सूची में शामिल नौ ओबीसी उम्मीदवारों में से तीन साहू जाति से संबंधित हैं, जो राज्य में एक प्रमुख ओबीसी समुदाय है. इस समुदाय ने पिछले चुनावों में कांग्रेस की जीत में बड़ा योगदान दिया था.

ADVERTISEMENT

 

ADVERTISEMENT

इन बड़े नेताओं पर भरोसा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपनी पारंपरिक पाटन सीट से और डिप्टी सीएम टीएस सिंह देव अपनी अंबिकापुर सीट से चुनाव लड़ेंगे, जबकि छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत को उनकी सक्ती सीट से फिर से उम्मीदवार बनाया गया है. जिन मंत्रियों को टिकट दिया गया है वे हैं – ताम्रध्वज साहू (दुर्ग ग्रामीण), अमरजीत भगत (सीतापुर-एसटी), उमेश पटेल (खरसिया), जय सिंह अग्रवाल (कोरबा), शिवकुमार डहरिया (आरंग-एससी), अनिला भेड़िया (डोंडी लोहारा- एसटी), रवींद्र चौबे (साजा), मोहम्मद अकबर (कवर्धा), कवासी लखमा (कोंटा) और मोहन लाल मरकाम (कोंडागांव). मंत्री गुरु रुद्र कुमार, जिन्होंने अहिवारा सीट (दुर्ग जिले) से 2018 का चुनाव लड़ा था, उनको पड़ोसी बेमेतरा जिले के नवागढ़-एससी निर्वाचन क्षेत्र से मैदान में उतारा गया है.

 

इन नेताओं का कटा टिकट, इन्हें मिला मौका

रविवार को जारी सूची में नवागढ़ से कांग्रेस के मौजूदा विधायक गुरुदयाल सिंह बंजारे का नाम नहीं है. राज्य कांग्रेस प्रमुख और बस्तर लोकसभा सदस्य दीपक बैज को चित्रकोट-एसटी सीट से मैदान में उतारा गया है. बैज ने 2018 का विधानसभा चुनाव चित्रकोट से जीता था, लेकिन 2019 में लोकसभा चुनाव जीतने के बाद उन्होंने सीट खाली कर दी. इस सीट के लिए हुए उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार राजमन बेंजाम ने जीत हासिल की थी. मौजूदा विधायकों की जगह जिन अन्य उम्मीदवारों को उनकी सीटों से मैदान में उतारा गया है, वे हैं- नीलकंठ चंद्रवंशी (पंडरिया सीट), भोला राम साहू (खुज्जी), रूप सिंह पोटाई (अंतागढ़-एसटी), शंकर ध्रुव (कांकेर-एसटी), हर्षिता स्वामी बघेल ( डोंगरगढ़-एससी) और के छविंद्र महेंद्र कर्मा (दंतेवाड़ा-एसटी).

पूर्व विधायक भोला राम साहू और शंकर ध्रुव को छोड़कर बाकी चार नए चेहरे हैं. वहीं कर्मा मौजूदा विधायक देवती कर्मा और दिवंगत कांग्रेस नेता महेंद्र कर्मा के बेटे हैं. नीलकंठ चंद्रवंशी कांग्रेस की कबीरधाम जिला इकाई के अध्यक्ष हैं, जबकि हर्षिता स्वामी बघेल राजनांदगांव जिला पंचायत की सदस्य हैं.

पार्टी ने जिन विधायकों का टिकट काटा है उनमें पंडरिया से ममता चंद्राकर, खुज्जी से छन्नी साहू, दंतेवाड़ा से देवती कर्मा, चित्रकोट से राजमन बेंजाम, अंतागढ़ से अनूप नाग, डोंगरगढ़ से भुवनेश्वर बघेल, नवागढ़ से गुरुदयाल बंजारे, कांकेर से शिशुपाल सोरी का नाम शामिल है.

 

रमन सिंह को गिरीश देंगे टक्कर

कांग्रेस नेता और छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के खिलाफ राजनांदगांव सीट से मैदान में उतारा गया है.

 

इन विधायकों को मिला दोबारा टिकट

पार्टी ने कुछ विधायकों पर फिर से अपना भरोसा जताया है. यशोदा वर्मा (खैरागढ़), दलेश्वर साहू (डोंगरगांव), इंद्रशाह मंडावी (मोहल्ला-मानपुर एसटी), सावित्री मंडावी (भानुप्रतापपुर-एसटी), संत राम नेताम (केशकाल-एसटी), चंदन कश्यप (नारायणपुर-एसटी), लखेश्वर बघेल (बस्तर -एसटी) और विक्रम मंडावी (बीजापुर-एसटी) मौजूदा विधायक हैं जिन्हें इस बार दोहराया गया है.

 

चुनाव से जुड़ी अहम बातें

-पहले चरण के लिए नामांकन दाखिल करने की शुरुआत 13 अक्टूबर से हुई. मतदान 7 नवंबर होगा.

-दूसरे चरण का मतदान 17 नवंबर को होगा, जिसमें 70 निर्वाचन क्षेत्र शामिल होंगे. वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी.

-भाजपा ने अब तक 85 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है, जिनमें वे 20 सीटें भी शामिल हैं जहां पहले चरण में चुनाव होने हैं.

-2018 के छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों में, कांग्रेस ने 90 सदस्यीय सदन में 68 सीटें हासिल करके शानदार जीत दर्ज की और सरकार बनाई.

-भाजपा 15 सीटों पर सिमट गई, जबकि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) और बहुजन समाज पार्टी को क्रमशः 5 और 2 सीटें मिलीं.

-सदन में कांग्रेस की मौजूदा ताकत 71 है. उसने इस बार 75 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है.

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ चुनाव: कांग्रेस की पहली लिस्ट में 8 विधायकों का कटा टिकट, इन नेताओं पर जताया भरोसा

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT