Chhattisgarh Election Counting: मतगणना के लिए तैयारी पूरी, जानें अहम बातें

ChhattisgarhTak

ADVERTISEMENT

कवर्धा मतगणना स्थल में अधिकारियों के साथ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी रीना बाबासाहेब कंगाले
कवर्धा मतगणना स्थल में अधिकारियों के साथ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी रीना बाबासाहेब कंगाले
social share
google news

Chhattisgarh Election Counting 2023- छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव-2023 के लिए 90 विधानसभा क्षेत्रों  में दो चरणों में हुए मतदान के बाद अब लोगों की निगाहें मतगणना पर है. तीन दिसम्बर को वोटों की गिनती होगी. इसके लिए सभी 33 जिला मुख्यालयों में तैयारियां पूरी कर ली गई हैं.

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी रीना बाबासाहेब कंगाले ने बताया कि सभी मतगणना केंद्रों में प्रेक्षकों की निगरानी में होने वाली मतगणना के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए 14 टेबल लगाए गए हैं. मतों की गिनती सुबह आठ बजे से शुरू होगी जिसमें सबसे पहले सेवा मतदाताओं के मतों की गणना होगी. सबसे पहले ईटीपीबीएस (इलेक्ट्रानिकली ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलैट सिस्टम) से प्राप्त मतों के क्यूआर कोड की स्कैनिंग की जाएगी. उसके बाद डाक मतपत्रों की गिनती शुरू होगी.

बता दें कि 1181 प्रत्याशियों के राजनीतिक भाग्य का फैसला 7 नवम्बर और 17 नवम्बर को ईव्हीएम में बंद हुआ था. आगामी 3 दिसम्बर को मतों की गिनती के साथ ही इनके नतीजे आएंगे.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

 

कवर्धा में सबसे ज्यादा राउंड में होगी काउंटिंग

साढ़े आठ बजे के बाद सभी टेबलों पर एक साथ मतगणना शुरू होगी. प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों में से कवर्धा में सबसे अधिक 30 चक्रों में मतगणना होगी. इसके बाद कसडोल में 29 चक्र होंगे. जबकि सबसे कम मनेन्द्रगढ़ और भिलाई नगर में 12 चक्रों में मतगणना होगी.

ADVERTISEMENT

 

ADVERTISEMENT

ऐसी है खास तैयारी

-कंगाले ने बताया कि कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना केन्द्रों में होने वाली मतों की गिनती के दौरान बिना प्राधिकार पत्र के किसी भी व्यक्ति को मतगणना कक्ष में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी.

-मतगणना के दौरान अभ्यर्थी किसी भी टेबल पर जाकर मतगणना को देख सकेंगे जबकि अभ्यर्थी के अभिकर्ता सिर्फ निर्धारित टेबल पर ही मतगणना का निरीक्षण करेंगे.

-मतगणना की पूरी कार्यवाही मतगणना प्रेक्षक तथा सामान्य प्रेक्षक की उपस्थिति तथा निगरानी में होगी.

-इस दौरान प्रत्येक राउंड की समाप्ति पर अभ्यर्थी या उनके अभिकर्ता की उपस्थिति और प्रेक्षक की निगरानी में रैंडम आधार पर किसी दो कंट्रोल यूनिट की जांच की जाएगी.

-इसके अलावा सभी चक्रों की गणना पूर्ण होने पर पांच वोटर वेरिफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (व्हीव्हीपेट) का ड्रा के माध्यम से चयन कर मतों का सत्यापन किया जाएगा.

 

स्ट्रांग रूम के बाहर त्रिस्तरीय सुरक्षा

वोटिंग के बाद ईवीएम को सभी जिला मुख्यालयों में स्ट्रांग रूम में त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे में रखा गया है. पूरी मतगणना प्रक्रिया की रिकार्डिंग भी रखी जाएगी. इस दौरान प्रेक्षक और रिटर्निंग ऑफिसर को छोड़कर मतगणना कक्ष में किसी को भी मोबाइल ले जाने की अनुमति नहीं होगी. इसके अलावा कोई भी अन्य व्यक्ति अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे- आईपेड, रिकार्डर, वीडियो कैमरा जैसे अन्य उपकरण नहीं ले जा सकेंगे.

इसे भी पढ़ें- Chhattisgarh Elections: नतीजों से पहले फलोदी सट्टा बाजार का बड़ा अपडेट, बघेल की हो गई बल्ले-बल्ले

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT