कब कैंडी क्रश खेलते हैं सीएम बघेल? छत्तीसगढ़ की सियासत में कैसे हुई इस गेम की एंट्री, यहां जानें

ChhattisgarhTak

ADVERTISEMENT

ChhattisgarhTak
social share
google news

Politics on Candy Crush in Chhattisgarh- छत्तीसगढ़ की सियासत में कैंडी क्रश (Candy Crush) को लेकर खूब चर्चा हो रही है. दरअसल, भाजपा ने बुधवार को दावा किया कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) आगामी विधानसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों के चयन पर कांग्रेस की बैठक के दौरान अपने मोबाइल फोन पर गेम कैंडी क्रश खेलने में व्यस्त थे. इस पर बघेल ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वह राज्य के पारंपरिक खेलों के साथ-साथ ‘कैंडी क्रश’ खेलना जारी रखेंगे. उन्होंने पूछा कि क्या कैंडी क्रश खेलना अपराध है?

कैंडी क्रश को लेकर विवाद तब शुरू हुआ जब विपक्षी भाजपा ने बुधवार को एक तस्वीर साझा की जिसमें सीएम अपने मोबाइल फोन पर गेम खेलते नजर आ रहे हैं. दावा किया गया कि यह तस्वीर मंगलवार रात राजधानी रायपुर में पार्टी के प्रदेश कार्यालय राजीव भवन में हुई कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक के दौरान की है. बैठक में कांग्रेस की राज्य प्रभारी कुमारी शैलजा, राज्य पार्टी प्रमुख दीपक बैज और अन्य नेता नजर आए, जबकि स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन और कुछ अन्य सदस्य बैठक में शामिल हुए.

बीजेपी के राष्ट्रीय आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने अपने एक्स हैंडल पर तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, “छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी निश्चिंत हैं, उन्हें पता है कि कितनी भी माथा-पच्ची कर लें सरकार तो आनी नहीं है. शायद इसीलिए कांग्रेस के प्रत्याशी चयन से संबंधित बैठक में ध्यान देने के बजाय उन्होंने CANDY CRUSH खेलना उचित समझा.” यह पोस्ट राज्य भाजपा इकाई की ओर से भी साझा किया गया.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

 

बघेल ने दिया जवाब, पूछा- कैंडी क्रश खेलना अपराध है क्या?

मुख्यमंत्री बघेल ने पूछा कि कैंडी क्रश खेलना अपराध है क्या? बघेल ने कहा, “मैं कभी तनाव में नहीं रहता. भाजपा चुनाव आते ही सक्रिय होती है. हम पांच साल सक्रिय रहे. पांच साल लोगों के बीच रहे. काम करते रहे. उम्मीदवार तय हो जाएंगे तो तनाव और कम हो जाएगा. प्रचार शुरू हुआ तो और तनावमुक्त.”

 

ADVERTISEMENT

कब कैंडी क्रश खेलते हैं बघेल?

सीएम ने बताया कि वे भोजन करने के बाद वे थोड़ा कैंडी क्रश खेलते हैं. उन्होंने कहा,  कल महराज साहब (टीएस सिंहदेव) डिनर पर बुलाए थे. जिसके बाद मैं बैठक में जल्दी चला गया तो कैंडी क्रश खेल रहा था. मिटिंग शुरू हुई कैंडी क्रश बंद. उन्होंने एक्स पर भी पोस्ट किया, “कल महाराज साहब जी के घर भोजन के ठीक बाद हम मीटिंग में गए. मीटिंग शुरू होने से पहले कार से ही मेरा गेम जारी था.”

ADVERTISEMENT

बघेल ने पूछा कि खेलने में तकलीफ क्या है? उन्होंने कहा,” हम गेड़ी भी चढ़ते हैं. भौंरा भी खेलते हैं. नदी में छलांग भी लगाते हैं. सारे खेल हम खेलते रहे हैं. यह भी एक खेल है. थोड़ा सा मनोरंजन कर लो. मनोरंजन करना अपराध है?”

 

‘भाजपा को मेरे होने पर ऐतराज’

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया साइट एक्स लिखा,  “पहले भाजपा को ऐतराज था कि मैं गेड़ी क्यों चढ़ता हूं, भौंरा क्यों चलाता हूं, गिल्ली डंडा क्यों खेलता हूं, प्रदेश में छत्तीसगढ़िया ओलंपिक क्यों हो रहे हैं? कल एक बैठक से पहले फोटो मिल गई जिसमें मैं कैंडी क्रश खेल रहा हूं. अब भाजपा को उस पर ऐतराज है.”

सीएम बघेल ने आगे लिखा, “दरअसल उनको मेरे होने पर ही ऐतराज है. पर यह तो छत्तीसगढ़ के लोग हैं जो तय करते हैं कि कौन रहेगा कौन नहीं रहेगा. मैं गेड़ी भी चढूंगा, गिल्ली डंडा भी खेलूंगा. कैंडी क्रश भी मेरा फेवरेट है. ठीक ठाक लेवल पार कर लिया हूं, वो भी जारी रहेगा.बाकी छत्तीसगढ़ को पता है कि किसे आशीर्वाद देना है.”

 

रमन-साव भी कूदे, बघेल ने क्या कहा?

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने भी इस पूरे मामले में बघेल पर चुटकी ली. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष साव ने सीएम भूपेश बघेल और प्रदेश प्रभारी कुमारी सैलजा पर तंज कसते हुए लिखा,  “मैं अपन Candy Crush “सगा” संग पिट्टुल-भौंरा खेलत रेहेंव: मुखिया जी. वो “सगा” नहीं Candy Crush “SAGA’ है भूपेश जी, अगले 5 साल पाटन में ये ही खेलना है “तैयार रहिए” :मैडम.”

वहीं रमन सिंह ने एक्स पर लिखा, “भूपेश जी पांच साल से आप छत्तीसगढ़ के साथ “खेल” ही तो रहे हैं. कभी लैंड स्केम गेम, कभी कोल स्केम गेम, कभी सेंड स्केम गेम, कभी लिकर स्केम गेम. अब आचार संहिता लगी है, तो स्कैम गेम तो खेल नहीं सकते तो कैंडी क्रश ही खेल रहे हैं. गजब है, 5 साल में आप कैंडी क्रश की 4400 लेवल पर हैं, और आपकी सरकार 420 लेवल पर. वैसे चिंता मत कीजिए, 17 नवंबर के बाद आपको फुल टाइम यही करना है.”

रमन सिंह के पोस्ट पर जवाब देते हुए बघेल ने कहा, “कितने प्यारे हैं डॉ साहब! आप ये सब कैसे कर लेते हैं? कोई टॉनिक वगैरह लेता हैं क्या? “परिवार और विस्तारित परिवार के साथ” 15 साल तक “कमिशनखोरी का कॉमनवेल्थ” खेलने वाले अब ऐसी बातें करेंगे? चिंता मत करो! मैं केवल कैंडीज को रौंद रहा हूं, लेकिन जनता कमिशनखोरों को फिर से रौंदने जा रही है.”

कांग्रेस की लिस्ट का इतंजार

राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने अब तक 90 सदस्यीय राज्य विधानसभा चुनाव के लिए किसी उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है. जबकि बीजेपी अब तक 85 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम घोषित कर चुकी है. ऐसे में सबकी निगाहें पार्टी की सूची पर है. छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव दो चरणों में 7 और 17 नवंबर को होंगे और वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी.

इसे भी पढ़ें- ‘कैंडी क्रश’ पर तकरार: BJP पर बरसे CM बघेल, कहा- ये मेरा फेवरेट; जानें क्या है मामला

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT