‘आदिवासी भाइयों के कारण बचा है जंगल’, जानें बस्तर में क्या बोले सीएम बघेल

ADVERTISEMENT

ChhattisgarhTak
social share
google news

World Tribal Day- विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर बुधवार को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) ने कहा है कि बस्तर में पहले भय का माहौल था जबकि आज भय से उन्मुक्त होते जा रहे हैं. आज हिंसक घटनाओं में बहुत कमी आई है.सीएम बघेल ने विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर जगदलपुर के काकतीय कॉलेज ग्राउंड में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि हजारों साल से जंगल से आदिवासियों का नाता रहा है. जो जंगल आज बचा है, वह आदिवासी भाइयों के कारण बचा है.

बघेल ने कहा कि बस्तर शांति का टापू है. प्राकृतिक सुंदरता से भरा हुआ है.बस्तर में साफ दिल के लोग हैं, भोले-भाले लोग हैं, मेहनतकश और ईमानदार लोग हैं. यहां पिछले कुछ वर्षों से भय का माहौल बना था, लेकिन आज वह भय से उन्मुक्त होते जा रहे हैं.आज हिंसक घटनाओं में बहुत कमी आई है और उसका लाभ जनता उठा पा रही है. लोग आसानी से व्यापार-व्यवसाय कर रहे हैं, शिक्षा से, रोजगार से जुड़ रहे है और अपनी संस्कृति से जुड़कर संरक्षित एवं संवर्धित कर रहे हैं. जिस सुंदर बस्तर की कल्पना हमारे पुरखों ने की थी, आज उसे साकार करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार दिन रात मेहनत कर रही है.

637 करोड़ रूपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास

इस दौरान मुख्यमंत्री श्री बघेल ने बस्तर जिले को 637 करोड़ रूपए के विकास कार्यों की सौगात दी.जिसमें 150 करोड़ रूपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और 487 करोड़ रूपए के विकास कार्यों के भूमिपूजन शामिल है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने संबोधन की शुरूआत मां दंतेश्वरी के जयकारे के साथ की.उन्होंने जनजातीय समुदाय के देवी-देवताओं को प्रणाम करते हुए सभी को विश्व आदिवासी की शुभकामनाएं दी.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

बघेल ने कहा, “आज का दिन आदिवासियों के लिए समर्पित है. पूरे विश्व में आदिवासी भाई बहन बहुत उल्लास के साथ अपना दिवस मना रहे हैं. मुझे यह बताते हुए गर्व की अनुभूति हो रही है कि हमारी सरकार ने सबसे पहले विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर शासकीय अवकाश देने की शुरुआत की है. इसके साथ ही आज 5633 ग्राम पंचायतों को आदिवासी परब सम्मान निधि की दूसरी किश्त के रूप में 281.65 लाख रूपए की राशि जारी  की गई है.यह पहली बार हुआ है कि आदिवासियों के जो त्यौहार परब है उसके लिए सम्मान निधि 10 हजार रुपये सालाना देने का निर्णय लिया गया है, ताकि हमारे आदिवासी भाई बहन उल्लास के साथ अपने त्यौहार मना सकें.”

‘आदिवासी भाइयों के कारण बचा जंगल’

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि आदिवासियों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाने का काम हमने किया है.हजारों साल से जंगल से आदिवासियों का नाता रहा है. जो जंगल आज बचा है, वह आदिवासी भाइयों के कारण बचा है, वही उनके साथ जीवन-यापन करते हैं, उसे सुरक्षित रखते हैं। यही कारण हैं कि हम लोगों ने पूरे देश में सर्वाधिक वन अधिकार पट्टा देने का काम किया है.हमने लोगों को सामुदायिक दावा अधिमान्यता पत्र और वन संसाधन अधिकार भी दिए है.

ADVERTISEMENT

अबूझमाड़ के लिए कही ये बात

बघेल ने कहा कि नारायणपुर जिले में पहली बार सर्वे कर अबूझमाड़ में मसाहती पट्टा देने का काम किया जा रहा है.अब तो व्यक्तिगत वन अधिकार पत्र में ऋण पुस्तिका भी बनने लगा है,उसमें लोन भी मिल रहा है और धान सहित फसल बेचने का अधिकार भी लोगों को मिला है.उन्होंने कहा कि हमारे वनांचल क्षेत्र में रहने वाले भाई-बहन वनोपज का संग्रहण करके साल भर अपना खर्चा चलाते है और अपनी जरूरत का समान खरीद पाते है. मुझे यह बताते हुए खुशी हो रही हमारी सरकार ने 67 प्रकार के वनोपज खदीने की न केवल व्यवस्था की है बल्कि उसका समर्थन मूल्य घोषित किया और उसका वैल्यूएडिशन भी कर रहे हैं. कैसे आदिवासी की जेब में अधिक से अधिक पैसा जाए इस दिशा में हमने काम किया है.

ADVERTISEMENT

बस्तर में बच्चे फर्राटे से बोल रहे अंग्रेजी…

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बस्तर में बच्चे फर्राटे से अंग्रेजी में बात कर रहे हैं इसे देखकर बड़े-बड़े लोग जो अंग्रेजी बोलने वाले हैं वह भी दांतो तले उंगली दबा लेते हैं. इस प्रकार से न केवल स्कूल बल्कि अंग्रेजी कॉलेज भी हमारे राज्य में खोले जा रहे हैं.उन्होंने कहा कि सड़को का, पुल-पुलियों का लगातार हमने निर्माण किया और इसका सीधा फायदा आदिवासियों को हो रहा है.अंदरुनी क्षेत्रों में अब कोई सड़के नही काटे जाती और वहां लोग अब सड़कों की मांग कर रहे हैं आज मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना के माध्यम से घर के पास ही लोगों को स्वास्थ्य सेवा मुहैया करने का बड़ा काम हमारी सरकार ने किया है.

टीएस सिंहदेव ने कही ये बात

उपमुख्यमंत्री  टी.एस. सिंहदेव ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सभी को विश्व आदिवासी दिवस की शुभकामनाएं दी.उन्होंने कहा कि आज सरकार के प्रयासों से बस्तर और सरगुजा के आदिवासियों में खुशहाली और सम्पन्नता आई है. लोगों को उनके अधिकार मिल रहे हैं.उनके आस्था स्थलों का संरक्षण किया जा रहा है.आदिवासियों के हित में आगे भी इसी तरह काम करते रहेंगे। कार्यक्रम को उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने भी सम्बोधित किया.

इसे भी पढ़ें- Vishwa Adivasi Diwas 2023: सीएम बघेल ने प्रदेशवासियों को दी बधाई, आदिवासियों से जुड़े इन कामों का किया जिक्र

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT